Home

हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है, इसलिए इस बात का धयान रखिये कि आप क्या सोचते हैं. शब्द गौण हैं. विचार रहते हैं, वे दूर तक यात्रा करते हैं. 

Swami Vivekananda स्वामी विवेकानंद

“आयकर सम्बन्धी उपयोगी प्रपत्र एवं प्रावधान”चाइल्ड केयर लीव (Child Care Leave). Pay Manager Bill process
केश बुक सम्बन्धित सामान्य जानकारी IN PDFमेडीक्लेम बीमा पॉलिसी RPMF new from 01.04.2019
पेंशन नियम एवं ग्रेच्युटीउपयोगी किताबेसभी फिटमेंट और increment सम्बंधी pdf उपलब्ध है
आवश्यक अभिलेख कार्यालय अभिलेखों की अवधिअवकाश नियम
Excel Sheet By:- Shree Heera lal jatतीसरी संतान की गणना के तरीके एसीपी,पदोन्नति पर संपूर्ण उपयोगी जानकारी मय नियमों तथा आदेश परिपत्र।समान पद पर नियुक्त होने पर वेतन निर्धारण

फॉर्म-प्रपत्र            महत्वपूर्ण आदेश            प्रेरक प्रसंग

सेवा पुस्तिका संधारन

प्रथम प्रयास प्रयास दूसरा

किसी अन्य प्रपत्र की आवश्यकता हो तो कृपया इस लिंक पर क्लिक कर अवगत करावें

एक बार की बात है कि एक बाज का अंडा मुर्गी के अण्डों के बीच आ गया. कुछ दिनों  बाद उन अण्डों में से चूजे निकले, बाज का बच्चा भी उनमे से एक था.वो उन्ही के बीच बड़ा होने लगा. वो वही करता जो बाकी चूजे करते, मिटटी में इधर-उधर खेलता, दाना चुगता और दिन भर उन्हीकी तरह चूँ-चूँ करता. बाकी चूजों की तरह वो भी बस थोडा सा ही ऊपर उड़ पाता , और पंख फड़-फडाते हुए नीचे आ जाता . फिर एक दिन उसने एक बाज को खुले आकाश में उड़ते हुए देखा, बाज बड़े शान से बेधड़क उड़ रहा था. तब उसने बाकी चूजों से पूछा, कि-” इतनी उचाई पर उड़ने वाला वो शानदार पक्षी कौन है?”
तब चूजों ने कहा-” अरे वो बाज है, पक्षियों का राजा, वो बहुत ही ताकतवर और विशाल है , लेकिन तुम उसकी तरह नहीं उड़ सकते क्योंकि तुम तो एक चूजे हो!”
बाज के बच्चे ने इसे सच मान लिया और कभी वैसा बनने की कोशिश नहीं की. वो ज़िन्दगी भर चूजों की तरह रहा, और एक दिन बिना अपनी असली ताकत पहचाने ही मर गया.
आप चूजों  की तरह मत बनिए , अपने आप पर ,अपनी काबिलियत पर भरोसा कीजिए. आप चाहे जहाँ हों, जिस परिवेश में हों, अपनी क्षमताओं को पहचानिए और आकाश की ऊँचाइयों पर उड़ कर  दिखाइए  क्योंकि यही आपकी वास्तविकता है.